किस्सा : विरह में जलते दो जोड़ो का कृष्ण के संतावना के साथकिस्सा : विरह में जलते दो जोड़ो का कृष्ण के संतावना के साथ
साथी :- “मुलाकात हुई फिर प्यार परवान चढ़ा, दो से तीन मुलाकातों के बाद उसने किनारा करना शुरू कर दिया, शायद मोहब्बत रस्मो रिवाजो पर भाड़ी पड़ा या फिर उसका जी भर गया ! धीरे धीरे उसने हांथ भी झटकना शुरू कर दिया, मिलन और बात पर धीरे धीरे बहाने बढ़े लॉन्ग वैक्शन के झूठे तराने भी मिले, तंग आकर साथी ने भी हांथ झटक डाला, ब्रेकअप का दौर बड़ा ही लंबा चला, साथी की राह एकटक देखता रहा, एक दिन साथी का पैगाम आया, बड़े ही प्यार से खोज खबर फिर खैरियत पूछा, विरह की आग में जलता इस बार भी मिलन का महुरत पूछने लगा, संवाद का सिलसिला न बंद हो जाए इसलिए घुमा फिराकर एक बार दीदार करने की बात हर बार दुहराता रहा, सामने वाले जुल्मी और बेदर्द मोहब्बत से मिलने की भीख मांगता रहा, पहले तो बहाने आते थे अब जुल्मी ने आग भी बरसाना शुरू कर डाला, मोहब्बत में अलक्तरा लगा डाला 😁 ,”
कृष्ण का संतावना और सत्य :- “एक तरफ विरह की आग में एक साथी जला उसकी तपन से सामने वाले का कलेजा जला बीमारियों ने जालिम साथी को आ कर घेर लिया है आजकल सुना है वेद और हकीमों के चक्कर पर चक्कर लगा रहा है । दवा तो मिलन है, विरह की तपन में जब एक साथी जलने लगे, फिर दूसरे पर उसका असर कैसे ना परे ! न न कोई जानबूझकर भी वो ना जले, विरह की आग ही ऐसी है या तो मोहब्बत मिले या दम निकले। विरह की आग की लौ अब जुल्मी साथी को भी जला रही है। मोहब्बत की शक्ति को देख रहे हो अरे ए तो वो शक्ति है जो भगवान को भी खींच कर पास बुला लाए कब तक जलाओगे या जलोगे ? एक दिन राख होकर खाक होगे या फिर दोनो का मिलन फिर होए जाए । सच्ची मोहब्बत तो द्वापर से मुझे कल युग तक खींच लायो (मीराबाई) । तेरी मोहब्बत तो कलयुग में ही है, सच्ची मोहब्बत और विरह की आग में तो जल, खींच न लाए तेरी विरह की आग उस जुल्मी साथी को फिर कहना, नही खींच सका तब तेरी मोहब्बत ही देह तक थी, खींच लिया तब समझना ये रूह वाली मोहब्बत है 💗💗💗.” राधे राधे ।

By Shubhendu Prakash

Note:- किसी भी तरह के विवाद उत्प्पन होने की स्थिति में इसकी जिम्मेदारी चैनल या संस्थान या फिर news website की नही होगी लेखक इसके लिए स्वयम जिम्मेदार होगा, संसथान में काम या सहयोग देने वाले लोगो पर ही मुकदमा दायर किया जा सकता है. कोर्ट के आदेश के बाद ही लेखक की सुचना मुहैया करवाई जाएगी धन्यवाद शुभेन्दु प्रकाश 2012 से सुचना और प्रोद्योगिकी के क्षेत्र मे कार्यरत है साथ ही पत्रकारिता भी 2009 से कर रहें हैं | कई प्रिंट और इलेक्ट्रनिक मीडिया के लिए काम किया साथ ही ये आईटी services भी मुहैया करवाते हैं | 2020 से शुभेन्दु ने कोरोना को देखते हुए फुल टाइम मे जर्नलिज्म करने का निर्णय लिया अभी ये माटी की पुकार हिंदी माशिक पत्रिका में समाचार सम्पादक के पद पर कार्यरत है साथ ही aware news 24 का भी संचालन कर रहे हैं , शुभेन्दु बहुत सारे न्यूज़ पोर्टल तथा youtube चैनल को भी अपना योगदान देते हैं | अभी भी शुभेन्दु Golden Enterprises नामक फर्म का भी संचालन कर रहें हैं और बेहतर आईटी सेवा के लिए भी कार्य कर रहें हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *