Ethical Values and Principles for News OrganizationsEthical Values and Principles for News Organizations

कड़ी मेहनत और समर्पण किसी भी मंच (Facebook , YouTube , Instagram Twitter या अन्प) पर अधिक दर्शकों ( audieance ) और अनुयायियों (Followers/subscribers) को हासिल करने की कुंजी है।

यह कठोर सच्चाई है कि हमने कभी भी सामग्री (लिखित/विडियो) के लिए भुगतान नहीं किया। क्योंकि यह एक जानकारी है न कि कोई कला या संगीत या शायरी युगल संगीत या किसी भी प्रकार की कला।
खबरों को छोड़कर हर चीज का प्रचार नैतिक मूल्यों और सिद्धांतों पर ठीक उतरता है। क्योंकि हर कोई नाम और सोहरत किसी भी कीमत पर चाहता है। पैसा देकर समाचार प्रसारित करना एक प्रकार का प्रोपेगेंडा चलाना भी है।
अब मान लो की केबल वाला या कोई news channel वाला आपको channel देखने के पैसे दे, ले नही, फिर क्या वो दिखाएगा ? सिर्फ प्रचार न की खबर क्योंकि उसको भी इसके लिए पैसे मिले है। इसे सभ्य समाज ने PR का नाम दिया । किसी भी प्लेटफॉर्म को इसे समझना होगा की न्यूज़ और सुचनाओ को जब भी कोई संसथान प्रचारित करे इसका मतलब है वो खबर नही है एक प्रकार का प्रोपगेंडा है।
कुछ बड़े संगठन जैसे हम नाम ले लेंगे क्योंकि हम पापी नही इसलिए सुनिए जैसे LiveCities BIHAR , Janta Junction और कई अन्य बड़े नाम हैं जिनकी खबरें हमने प्रायोजक (sponsored) अनुभाग में देखी हैं।
कुछ चीजें जैसे किसी के इंटरव्यू को प्रमोट करना इस मामले में मैंने The Lallantop को देखा है अगर जिसका इंटरव्यू हमने लिया वह चाहता है की, यह अधिक से अधिक लोगो तक इसकी पहुच हो तो इसमें कोई बुराई मुझे नजर नही आती।
                                                                                                                      क्योंकि हर व्यक्ति को अपनी आवाज दूर तक पहुचाने का हक़ है इनमे आप Pushpam Priya Choudhary को देख सकते हैं पहले अखबारों में लंबा चौरा विज्ञापन फिर Saurabh Dwivedi जी का उसके इंटरव्यू के लिए वहाँ पर अवतरित होना किस और इशारा करता है ? इसमें कोई बुराई नही की उन्होंने या उनके संसथान ने पैसा लेकर किसी को प्रचारित किया।
भैया यहाँ पर टीवी के पैनेल में बैठे पैन्लिस्ट तक पैसा देकर अपना नाम और सोहरत करवाते हैं फिर अपने प्रोफाइल में टीवी पैनालिस्ट लिखते हैं और यहीं उनकी मुर्खता भी है। क्योंकि कोई भी व्यक्ति खुद को पैनालिस्ट बताये इससे ज्यादा हाश्यस्पद क्या हो सकता है ? you know its a joke.
लेकिन साधारण सी खबर भी जब कोई समाचार संस्था जबरदस्ती पैसे देकर लोगों को दिखाती है जैसे मान लो The Lallantop show को sponsored section में जाना परे मतलब की एक news बुलेटिन के शो को जिसके लिए देखने वाले को पैसा देना चाहिए मगर दिखानेवाला पैसा दे रहा। तो वही प्रोपगेंडा है ।
क्लियर कर दू की lalantop ऐसा कभी नही करता वो सिर्फ इंटरव्यू आदि को अनुरोध पर उसके ही पैसे लेकर sponsored section में दिखाता है मतलब की उसके रीच के लिए उसने फेसबुक, google या फिर अन्य को पैसा दिया हो। और इसमें मेरे ख्याल से कोई बुराई भी नही।
लेकिन  जब खबर या news बुलेटिन के show या फिर सूचनाओं को पहुचाने के लिए कोई news संसथान प्लेटफार्म को पैसा देता है तो इसका व्यापक असर इन (facebook , ट्वीटर और अन्य ) प्लेटफॉर्म्स की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर पड़ता है  उस खबर और सूचना को समझ ही नही पाती की यह news है या फिर या फिर कोई ऐसी संसथान है जिससे हम पैसा लेकर इसे बढ़ावा देना है या नहीं !
हम लोगों की तरह जो इन मंचों पर नैतिक मूल्यों और सिद्धांतों की स्थापना करना चाहते हैं, उनकी आवाज को भी दबा दिया जाता है।
खबर और प्रोपेगेंडा या फिर advertisement में आपको अंतर करना सीखना पड़ेगा।
जैसे पिछले दिनों LiveCities BIHAR ने यामहा की एक खबर चलाई उसमे उसने उस प्रोडक्ट की सिर्फ खूबी का बखान ही किया मगर उसकी खामिया गिनवाना भूल गये , कभी किसी राजनेता का इतिहास ही बताया लेकिन उसमे भी वो उसकी सिर्फ खूबी गिनवाते रहे फिर वो प्रोपगेंडा है, पिछले दिनों आप ऐसा करते Janta Junction को भी देख सकते हैं बिजली के दाम घट गये बिहार सरकार ये करेगी वो करेगी ये फायदा होगा मगर जमीनी हक्कित क्या है ?
तो इन संस्थानों ने अपने नैतिक मूल्य और सिद्धांत बेच दिए हैं। कारण ? क्योंकि आज के समय में पैसा नैतिक मूल्य और सिधांत से ऊपर निकल गया है। फिर भी कुछ लोग है जैसे आप The Lallantop देख लीजिये।
हम लोगो का भी प्लेटफार्म (Aware News 24 | Patna | Facebook ) आप देख सकते हैं।
व्यक्ति बुडा या अच्छा नही होता उसके विचार अच्छे और बुडे होते हैं। जिस दिन आप देखे की हमलोगों ने पैसे देकर अपने संसथान के किसी भी कार्यकर्म को (इनमे इंटरव्यू सामिल नही है ) आगे बढाने की कोसिस की आप हमें भी देखना और पढना छोड़ सकते है। क्योंकि जो व्यक्ति दुसरो पर कीचड़ उछाल रहा है क्या वो दूध का धुला है ? तो भैया हम सीसे में अपनी नजर से नजर मिलाकर बात करते है। बाद बांकी कृष्ण मेरी दिशा और दशा तय करते हैं और कोई नही क्योंकि ।।कृष्ण है तो कर्म है।। और ।।कर्म है तो कृष्ण है।।
।।राधे राधे।।
#shubhendukecomments

By Shubhendu Prakash

Note:- किसी भी तरह के विवाद उत्प्पन होने की स्थिति में इसकी जिम्मेदारी चैनल या संस्थान या फिर news website की नही होगी लेखक इसके लिए स्वयम जिम्मेदार होगा, संसथान में काम या सहयोग देने वाले लोगो पर ही मुकदमा दायर किया जा सकता है. कोर्ट के आदेश के बाद ही लेखक की सुचना मुहैया करवाई जाएगी धन्यवाद शुभेन्दु प्रकाश 2012 से सुचना और प्रोद्योगिकी के क्षेत्र मे कार्यरत है साथ ही पत्रकारिता भी 2009 से कर रहें हैं | कई प्रिंट और इलेक्ट्रनिक मीडिया के लिए काम किया साथ ही ये आईटी services भी मुहैया करवाते हैं | 2020 से शुभेन्दु ने कोरोना को देखते हुए फुल टाइम मे जर्नलिज्म करने का निर्णय लिया अभी ये माटी की पुकार हिंदी माशिक पत्रिका में समाचार सम्पादक के पद पर कार्यरत है साथ ही aware news 24 का भी संचालन कर रहे हैं , शुभेन्दु बहुत सारे न्यूज़ पोर्टल तथा youtube चैनल को भी अपना योगदान देते हैं | अभी भी शुभेन्दु Golden Enterprises नामक फर्म का भी संचालन कर रहें हैं और बेहतर आईटी सेवा के लिए भी कार्य कर रहें हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *